Bihar में शराबकांड पर चिराग पासवान का बड़ा दावा, 200 से ज्यादा लोगों की हुई मृत्यु, सच दबाया जा रहा

RAJNITIK BULLET
0 0
Read Time3 Minute, 53 Second
Dec 17, 2022
अपने बयान में चिराग पासवान ने कहा कि 200 से ज्यादा लोगों की मृत्यु हुई है। सच दबाया जा रहा है। उन्होंने दावा किया कि पोस्टमार्टम किए बिना अंतिम संस्कार करवाया गया। परिवार पर दवाब डालाते हुए बोला जा रहा है कि मत बोलो कि शराब से मृत्यु हुई है नहीं तो जेल भेज देंगे।

बिहार के सारण में जहरीली शराब पीने से लगभग 70 लोगों की मौत हो गई है। इसको लेकर विपक्ष जबरदस्त तरीके से नीतीश कुमार की आलोचना कर रहा है। विपक्ष का दावा है कि बिहार में शराबबंदी कानून पूरी तरीके से विफल है और पुलिस प्रशासन शराब माफियाओं के साथ मिला हुआ है। इन सबके बीच लोक जनशक्ति पार्टी रामविलास के नेता चिराग पासवान आज सारण के मशरख पहुंचे हैं। मशरख ही वह इलाका है जहां पर जहरीली शराब पीने से ज्यादातर लोगों की मौत हुई है। इस दौरान वह मृतकों से मिले। उन्होंने जमकर नीतीश कुमार और उनकी सरकार पर भी निशाना साधा। चिराग पासवान ने साफ तौर पर कह दिया है कि जहरीली शराब पीने की वजह से 200 से ज्यादा लोगों की मौत हुई है। लेकिन सच को दबाया जा रहा है।

अपने बयान में चिराग पासवान ने कहा कि 200 से ज्यादा लोगों की मृत्यु हुई है। सच दबाया जा रहा है। उन्होंने दावा किया कि पोस्टमार्टम किए बिना अंतिम संस्कार करवाया गया। परिवार पर दवाब डालाते हुए बोला जा रहा है कि मत बोलो कि शराब से मृत्यु हुई है नहीं तो जेल भेज देंगे। CM की खामोशी भ्रष्ट अधिकारियों को समर्थन है। इससे पहले लोक जनशक्ति पार्टी ने अपने ट्विटर पर लिखा था कि नीतीश कुमार जी! बिहार में ये कैसी शराबबंदी है जहां जहरीली शराब पीने से बिहारियों की मौत हो रही है। पुनः शराबबंदी की पोल खुली है। छपरा में कई लोगों की मृत्यु हो गई, कई लोग अभी अस्पताल में भर्ती है। इन मौतों का जिम्मेवार कौन है मुख्यमंत्री जी?

पार्टी ने आगे लिखा कि एक बात ध्यान जरूर रखिएगा आने वाले चुनावों में पाई-पाई का हिसाब होगा। और जब विपक्ष के लोग सदन में आपसे सवाल पूछते है तो आप कहते है ‘क्या हुआ’ हुआ तो कुछ नहीं मुख्यमंत्री जी, बस कई माताओं की गोद सूनी हो गई, कई बच्चें अनाथ हो गए और कितनों के चूल्हे बंद हो गए। आपका ये अहंकारी रवैया का जवाब जनता जरूर देगी। दूसरी ओर भाजपा भी जबरदस्त तरीके से नीतीश कुमार पर हमलावर है। भाजपा की ओर से मार्च भी निकाला जा रहा है। भाजपा नीतीश कुमार का इस्तीफा मांग रही है। वहीं, नीतीश कुमार साफ तौर पर कह रहे हैं कि जो शराब पिएगा वह मरेगा। शराब पीना बुरी बात है। शराब से मरने वालों को कोई भी मुआवजा सरकार की ओर से नहीं दिया जाएगा।

Next Post

India-China Clash: दिग्विजय ने पूछा, चीन से क्यों डरते हैं प्रधानमंत्री मोदी

Dec […]

You May Like

👉