एस.जे.एस. लालगंज ने बच्चों और अभिभावक के साथ फिर से जिया बचपन

RAJNITIK BULLET
0 0
Read Time3 Minute, 53 Second

(राममिलन शर्मा) लाल गंज रायबरेली।
‘ना न कुछ पाने की आशा, न कुछ खोने का डर,
बस अपनी ही धुन, अपने सपनों का घर,
काश मिल जाए मुझे फिर वह बचपन का पहर’
कहते हैं इंसान के जीवन का सबसे यादगार समय बचपन का होता है हर व्यक्ति के मन में एक बार फिर से बचपन जीने की इच्छा होती है, इसी अभिलाषा को पूरा करने का एक प्रयास नगर के अग्रणी शिक्षण संस्थान एसजेएस पब्लिक स्कूल लालगंज द्वारा पतंगोत्सव कार्यक्रम द्वारा किया गया। पतंगोत्सव कार्यक्रम का शुभारंभ विद्यालय प्रबंध तंत्र समिति के साथ मुख्य अतिथि डाक्टर भूमिका सिंह माडर्न कोच फैक्ट्री द्वारा फीता काटकर किया गया। विद्यालय द्वारा विभिन्न प्रकार के बाल मनोरंजक कार्यक्रमों तथा विभिन्न मनोरंजन खेल प्रतियोगिताओं में कक्षा पीजी में बैलून बर्स्ट रेस कक्षा नर्सरी में ड्रेस अप रेस, पेयर रेस कक्षा केजी में कलेक्शन रेस, फ्रेंडशिप, रेस, रिले रेस, कक्षा 1 में मेरीगोल्ड रेस, नीडल रेस, स्पून लेमन रेस, होमवर्क रेस तथा कक्षा 2 में हर्डल रेस, बैलून बैलेंस रेस, ब्रेड मेकिंग रेस, क्रोकोडाइल रेस का मनमोहक आयोजन किया गया। इस रंगारंग कार्यक्रम में पीजी से कक्षा दो तक के छात्र छात्राओं ने अपने माता -पिता के संग विभिन्न खेल प्रतियोगिताओं में सामूहिक प्रतिभाग किया तथा सभी प्रतियोगिताओं में प्रथम द्वितीय व तृतीय स्थान प्राप्त करने वाले प्रतिभागियों को मेडल व पुरस्कार के साथ प्रबंध तंत्र समिति द्वारा सम्मानित किया गया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि डाक्टर भूमिका सिंह ने अपने संबोधन में पतंग उत्सव कार्यक्रम का वैज्ञानिक तथ्य बताते हुए लोगों को स्वास्थ्य व शिक्षा के बारे में अनेक बातें बताई। इसी क्रम में विद्यालय के प्रबंधक श्री अग्रज सिंह ने अपने उद्बोधन में बच्चों को खेलों से होने वाले विभिन्न प्रकार के लाभों के बारे में बताया। जहां एक ओर बच्चों में अपने माता-पिता के संग खेल प्रतियोगिता में भाग लेने की खुशी दिखी वहीं दूसरी ओर अभिभावकों में एक बार फिर से बचपन जीने का उत्साह दिखा। विद्यालय में उपस्थित सभी अभिभावकों ने विद्यालय द्वारा आयोजित इस प्रतियोगिता की भूरि-भूरि प्रशंसा करते हुए कहा की ऐसी प्रतियोगिताएं बच्चों को शारीरिक एवं मानसिक रूप से स्वस्थ रखने के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। कार्यक्रम के इस अवसर पर विद्यालय में कक्षा पीजी से कक्षा दो तक के समस्त बच्चे अभिभावक तथा विद्यालय के समस्त शिक्षक व शिक्षकाऐं उपस्थित रहे।

Next Post

सारथी वाहन बता रहा परिवार नियोजन के लाभ

(बीके […]
👉